Aj desh me mar raha kisan hai

आजादी के इतने साल बाद भी ,
आज देश में मर रहा किसान हैं ,
आखिर क्यों हो रहा ऐसा हाल है ?
बीच में विचौला ही मालामाल है ,
अन्न जिसका खाकर हम जिंदा हैं ,
आज वही क्यों इतना परेशान हैं ,
ली जो कर्ज उसने अच्छी उपज के लिए ,
फिर भी सूखे से हैरान और परेशान हैं,

आजादी के इतने साल बाद भी,
आज देश में मर रहा किसान हैं ,
आज बच्चे उनके भुख से बेचैन है ,
खुद को बेवश पाकर दे रहे वे अपनी जान है ,
आज जाग रहा बेचारा किसान हैं,
और सो रही उनकी सरकार है,
सिमटी हुई पन्नों पर योजनाएं हैं,
आखिर क्यों हो रहा ऐसा हाल है ?

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

Leave a Reply