Civil engineer

Being a civil engineer,for all civil engineers…hahahaha..

गुजारी है ज़िन्दगी मैंने , सीमेंट और रेत मिलाने में

कैसे भला कोई इश्क़ करे, हम मजदूरों के घराने में

अब खुद के सपनों का घर बसाने की हम क्या सोचें

उम्र कट रही है पूरी, दूसरों का मकाँ बनाने में

Only for fun…??

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

9 Comments

  1. JYOTI BHARTI - March 23, 2017, 11:48 pm

    Ye dard yha bhi hai….being a civil engineer as well…

    Doosro ka makaan banane aur sajane me kabhi pta hi nhi chala ki apne makaan bnane ka waqt guzar gya….

    • Pankaj Garg - March 24, 2017, 9:00 am

      Kya bat h…ye registan me paanj kaha se bars Gaya…I mean civil me girls khuda ki rahmat hi h…haha

      • Pankaj Garg - March 24, 2017, 9:06 am

        Nd der is lot of difference between घर nd मकान . मकान ईंट -पत्थर का सिर्फ एक ढांचा होता है जबकि घर दो लोगों का प्यार से ढाला हुआ एक साँचा होता है। मकान तो खूब बनवाये है, पर घर…हाहाहा no comments…

      • JYOTI BHARTI - March 24, 2017, 2:07 pm

        तपर्य वही था बस शब्द बदल गए जनाब।।

      • Pankaj Garg - March 24, 2017, 3:12 pm

        ओह हाँ , माफ़ कीजियेगा मैडम , भूल गया था की आप भी सिविल से ही हो…एक सिविल वाले को ही घर और मकान का मतलब समझाने चल पड़ा….हाहाहा 😉 😀

  2. Sridhar - March 24, 2017, 7:52 am

    nice

  3. Nitesh Chaurasia - March 24, 2017, 10:35 am

    Amazing
    Cha gye Civil wale sahab 😉

Leave a Reply