जो आज है वो कल न होगा

जो आज है वो कल न होगा!
गमों का पल हरपल न होगा!
मिलेगी रोशनी कदमों को,
दर्द का कोई सकल न होगा!

 


 

तुम्हारे लब पर नाम मेरा जब आएगा!
गुजरा हुआ मंजर तुमको नज़र आएगा!
#बिखरे हुए अफसाने घेरेंगे इसतरह,
दर्द का समन्दर पलकों में उतर आएगा!

Written By #महादेव

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in Varanasi, India

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

3 Comments

  1. Rohan Sharma - February 5, 2016, 6:44 pm

    kya baat he sir!

  2. Panna - February 7, 2016, 8:26 am

    nice

  3. UE Vijay Sharma - February 16, 2016, 3:41 pm

    दर्द का समन्दर पलकों में उतर आएगा ….. Dard diya bhee aur Dard Liya bhee……Nice bhai saheb

Leave a Reply