मेरा हमसफर जबसे दूर हो गया है

मेरा हमसफर जबसे दूर हो गया है!
ख्वाब हसरतों का मजबूर हो गया है!
घेरती हैं मुझको #तन्हाईयाँ मेरी,
आईना उम्मीद का चूर हो गया है!

Written By #महादेव

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in Varanasi, India

3 Comments

  1. Panna - February 3, 2016, 2:04 pm

    bahut khoob!

  2. Rohan Sharma - February 5, 2016, 6:43 pm

    nice

  3. UE Vijay Sharma - February 16, 2016, 3:37 pm

    आईना उम्मीद का ….. kya comparison kiya hai ..nice bhai..Subhaan Allah

Leave a Reply