कच्ची मिट्टी के जैसी मै धीरे धीरे धँसती हूँ

कच्ची मिट्टी के जैसी मै धीरे धीरे धँसती हूँ

मै लडकी हूँ इस आँगन की तब ही इतनी सस्ती हूँ

 

लोग लगाएगें बोली मेरी बडे सलीके  से

लोग तमाशा देखेगें कि मै कितने में बिकती हूँ

 

मेरी मर्जी का मोल नही है मेरे ख्वाब की क्या कीमत

कोई नही पूछेँगा मुझसे मै क्या हसरत रखती हूँ

 

मेरा कद बढता है तो फिर बाप के काधेँ झुकते है

मै गीली लकडी चूल्हे की धीरे धीरे जलती हूँ

 

मुझको क्या उम्मीद ‘लकी’ अब इस दुनिया मे आने की

माँ की कोख में सदियों से मै डरती डरती पलती हूँ

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply