जहां में चाहे गम हो या खुशी क्या

गजल : कुमार अरविन्द

जहां में चाहे गम हो या खुशी क्या |
मेरे मा – बैन रंजिश दोस्ती क्या |

खुदा मुझको यकीं खुद पे बहुत है |
तो पंडित हो या चाहे मौलवी क्या |

मुहब्बत के ‘ चरागे – दिल बुझे हैं |
तो जाये आज या कल जिंदगी क्या |

हजारों ‘ ख्वाहिशें ‘ फीकी पड़ी हैं |
मुकद्दर है नही तो फिर कमी क्या |

अगर ‘ तुम छोड़ दो लड़ना तो सोचूं |
गुलों की खार से होगी दोस्ती क्या |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. mansi - May 6, 2018, 7:22 pm

    very nice thinking

  2. राही अंजाना - May 6, 2018, 9:24 pm

    धन्यवाद

Leave a Reply