मुहब्बत की गली कूचों में क्या है

गजल : कुमार अरविन्द

मुहब्बत की गली कूचों में क्या है |
इधर देखो मेरी आँखों में क्या है |

बड़ा ही जोर है उन के जुबां में |
नही तो जोर जंजीरों में क्या है |

ये करने वाले हैं कर जाते हैं सब |
वगरना आग तकरीरों में क्या है |

खुदाया दिल नही देखा कहीं पे |
खुदा को पा गये ख्वाबों में क्या है |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:29 pm

    Aah

Leave a Reply