चले आओ मेरी आँखों का पानी देखते जाओ

गजल : कुमार अरविन्द

चले आओ मेरी आंखों का पानी देखते जाओ |
कहानी है तुम्हारी ही , निशानी देखते जाओ |

मैं जिन्दा हूं तुम्हारे बाद भी तुमको तसल्ली हो |
कफ़न सरका के मेरी बे – ज़बानी देखते जाओ |

तुम्हारी बेबफाई का उतारूं आज मैं ‘ सदका |
मेरी यूं ‘ ख़ाक में मिलती जवानी देखते जाओ |

कहां गुजरी गुजारी जिंदगी तुमको पता कैसे |
मेरे इस दर्द की पागल कहानी देखते जाओ |

हमारे पैरहन से ख़ुशबुएं आती हैं हर लम्हा |
गुलों के साथ रहने की निशानी देखते जाओ |

सुकूं मिलता नहीं है बाद मर जाने के दुनियां में |
कफ़न ओढ़ी हुई ‘ आंखों मे पानी देखते जाओ |

अभी तारा ये रूठा था ‘अचानक चा़ंद निकला है |
छतों पर से करिश्मे आसमानी देखते जाओ |

अगर हिंदी हमारी माँ रही उर्दू बनी मौसी |
यक़ीनन आप मेरी हम ज़ुबानी देखते जाओ |

तुम्हीं कहते रहे अरविन्द कुछ दिल में कहीं होगा |
मुहब्बत हो गयी है ‘ मेहरबानी देखते जाओ |

बेजबानी – चुप रहना , सदका – न्यौछावर या उतारा ,
खाक – मिट्टी , पैरहन – कपडे

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:30 pm

    Waah

Leave a Reply