नक़ाब

नक़ाब से जो चेहरा, छिपा कर चलती हो।
मनचलों से या गर्द से, बचा कर चलती हो।

सरका दो फिर, गर जो तुम रुख से नक़ाब,
महफिल में खलबली, मचा कर चलती हो।

तेरे आने से पहले, आने का पैगाम आता है,
पाज़ेब की छन – छन, बजा कर चलती हो।

तेरी एक दीद को, तेरी राह पे खड़ा कब से,
तिरछी नज़रों से दीदार, अदा कर चलती हो।

डसती है नागिन सी, तेरी बलखाती गेसू,
पतली कमर जब, बलखा कर चलती हो।

देवेश साखरे ‘देव’

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Poonam singh - March 16, 2019, 8:11 pm

    Nice

  2. राही अंजाना - March 17, 2019, 11:31 am

    वाह

Leave a Reply