ग़ज़ल

बंधु !
शक्ति–स्वरूपा माँ दुर्गा की आराधना के अकल्पनीय दिवस और अंतत: वैभव एवं विजय के पर्व ‘दशहरा’ पर मन–मानस में व्याप्त ‘लोभ–मोह–आघात’ के प्रतीक “रावण” का दहन । आप सभी का हार्दिक अभिनंदन एवं मंगल–कामनाएँ ।

गोयाकि ; ग़ज़ल है ! [A03.E004] ग़ज़ल ———–: अनुपम त्रिपाठी

वो ख़्वाब में जो अक्सर दिखाई देता है ।
कौन है जो मुझको हरजाई कहता है ॥

अपने गमों पे खुलकर दीवानगी है हँसना ।
गैरों के लिए रोना रूसवाई कहता है ॥

वो फ़र्द आख़िरी था ‘कल रात’ जो गया ।
फ़िर भी ज़माना हमको तमाशाई कहता है ॥

सब आईनों के अंदर ढूंढें अज़ीब दुनिया ।
है ‘रू…ह’ ‘रू-ब-रू’ तो परछाई कहता है ॥
#anupamtripathi #anupamtripathiG
**************************************
फ़र्द/आदमी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Anjali Gupta - October 12, 2016, 3:00 pm

    हमने तो गुजार दी जिंदगी उनको याद करते करते
    फिर भी जमाना हमारे इश्क को वेवफ़ाई कहता है

    • Anupam Tripathi - October 21, 2016, 1:16 am

      ” हैं हुस्न और इश्क में सदियों के फासले।
      सीप में कब? किससे?? समंदर भरा गया।।”
      —- अनुपम

  2. Anjali Gupta - October 12, 2016, 3:00 pm

    बहुत खूबसूरत गजल 🙂

    • Anupam Tripathi - October 21, 2016, 1:12 am

      हार्दिक आभार अंजली जी

  3. Anirudh sethi - October 12, 2016, 3:31 pm

    nice sir

  4. Sridhar - October 12, 2016, 3:44 pm

    अभिनंदन अभिनंदन अभिनंदन

Leave a Reply