कुंभ

कुंभ कुंभ ये है. कुंभ कुंभ कुंभ.
कुंभ कुंभ कुंभ. कुंभ कुंभ कुंभ . कुंम्म्मभ।
संगम तट पर प्रयागराज में,
ये है कुंभ कुंभ कुंभ. कुंभ कुंभ कुंभ.
कुंभ कुंभ कुंभ. कुंम्म्मभ।
श्रिवेणी में शाही स्नान.
देखता पूरा ब्रह्मांड,
अदभूत नज़ारे.
भस्म रमाये,
भक्तों का ये भव्य रूप.
देख भगवन अमृत बरसाए,
हर हर महादेव ……
ये है भक्तों का… कुंभ कुंभ कुंभ.
कुंभ कुंभ कुंभ. कुंभ कुंभ कुंभ. कुंम्म्मभ।
ध्वजा, पालकी,
ढोल़, नगाड़े,
अस्त्र- शस्त्र.
और ज़यज़यकारे,
भक्ति भाव की छटा बिख़ेर .
त्रिवेणी के घाट पे,
हर हर महादेव……..
ये है साधु- संतों का… कुंभ कुंभ कुंभ.
कुंभ कुंभ कुंभ. कुंभ कुंभ कुंभ. कुंम्म्मभ।
गंगा,यमुना
और सरस्वती में .
आस्था की ढुबकी लगाने ,
चले आए आदिकाल से.
कल्पवास में.
आध्यात्मिक पर्व मनाने,
धरती पे ये भव्य नजाऱे.
विभिन्नता में एकता के,
हर हर महादेव…….
ये है मानवता का… कुंभ कुंभ कुंभ.
कुंभ कुंभ कुंभ. कुंभ कुंभ कुंभ. कुंम्म्मभ।
भारत दर्शन.
जीव़न दर्शन .
ये है ब्रह्मांड दर्शन,
कह़ी नहीं.
ये है कुंभ दर्शन.
ये कुंभ दर्शन है.
भारत दर्शन,
हर हर महादेव…….
ये है भारत संस्कृति का… कुंभ कुंभ कुंभ.
कुंभ कुंभ कुंभ. कुंभ कुंभ कुंभ. कुंम्म्मभ।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. राही अंजाना - January 20, 2019, 12:55 pm

    वाह

  2. देवेश साखरे 'देव' - January 20, 2019, 3:57 pm

    सुंदर रचना

  3. ashmita - January 22, 2019, 3:43 pm

    nice

Leave a Reply