Sun Zara

Sun Zara

मैं आसमां की ऊंचाइयों को छू लूंगी,
तू पिंजरा तो खोल ज़रा।
मैं दिल की गहराइयों को छू लूंगी,
तू1मुझे वक्त तो दे ज़रा।
मैं हर कदम पर तेरा साथ दूंगी,
तू मुझे समझ तो ज़रा।
मैं हर मुसीबत को दूर कर दूंगी,
तू मुझपर भरोसा तो कर ज़रा।
मैं हर जगह मान बढ़ाऊंगी तेरा,
तू मुझे सम्मान तो दे ज़रा ।
मैं लड़की हूँ, हर कदम पर जीत जाउंगी,
तू मुझे जीने तो दे ज़रा।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - August 11, 2018, 9:09 pm

    वाह

Leave a Reply