तुम्हे मालूम हो ..

तुम्हे मालूम हो …
कुछ बाकी सा रह गया है तुम्हारे – मेरे दरम्यान…
जिसे मैं बहुत कोशिश करने पर भी शब्द नहीं दे पाता,
बस यूँही कभी महसूस कर लिया करता हूँ अकेले में,
गोयाकि,
कुछ फुसफुसाहटें,
कुछ पहली बारिशें,
कुछ अधपके से तुम्हरे साथ देखे ख्वाब,
कुछ तुम्हारी सी छुअन,
कुछ चुम्बन,
कुछ अकेली-अकेली सी ढीठ शामें,
कुछ आँखों-आँखों में काटी लम्बी रातें,
कुछ करीने से सहेजे हुए तुम्हारे लैटर,
और कुछ जिंदगी की भाग-दौड़ में भुला दी गयी यादें,
कुछ-कुछ मासूमियत, कुछ-कुछ मुस्कुराहटें,
कुछ-कुछ सावन, कुछ-कुछ चंदा !

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. अंकित तिवारी - July 10, 2015, 7:47 am

    वाह!!!!! जानदार

  2. Priya Gupta - July 14, 2015, 7:56 am

    full of emotions….nice!

Leave a Reply