“हकीकत”

ना जाने लोग अपनी “मंज़िल” को सपना क्यों कहते हैं?
मंज़िल तक जाना , उसे पाना
सपना नहीं “हकीकत” बनाना चाहती हूँ !

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Anirudh sethi - February 8, 2017, 7:36 pm

    very nice ji

  2. Mithilesh Rai - February 9, 2017, 6:05 am

    बेहतरीन

  3. Mithilesh Rai - February 9, 2017, 6:06 am

    बहुत खूब

  4. Rohan Sharma - February 9, 2017, 1:22 pm

    Nice one

Leave a Reply