कहो तो

कहो तो दिल की कलम से तुम्हारी तस्वीर बना दूँ,

 कहो तो  मोहब्बत के हसीन रंगों से उसे सजा दूँ,

और भी कुछ हसरतें बाकी हैं इस शीशा ऐ दिल में, 

कहो तो इस तस्वीर को ही अपनी तकदीर बना 

लूँ।

 

 

 

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Ashish Jain - June 12, 2016, 10:26 pm

    Bahut sundar line 🙂

Leave a Reply