माँ की साज़िश

माँ भूख लगी है
घर में कोई खाना नहीं हैं तोह क्या
खाली बर्तनों को चूल्हे में जलाकर
ताकी खाने की आस में उसे नींद आ जाये
यह भी याद है

माँ भूख लगी है
हर एक झूठ बोल कर
कल मीठा बनाउंगी बोल तेरा दाल चावल खिलाना
याद हैं

माँ भूख लगी है
खुद एक रोटी खा कर
मुझे भूख नहीं है कह कर सो जाती तू
यह भी मुझे याद है

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hi Everyone, I am from Kolkata.Land of culture and heritage.These are my creations.Please post your comment if you like it

6 Comments

  1. ashmita - April 6, 2019, 11:57 am

    Nice

  2. Poonam singh - April 11, 2019, 12:25 pm

    Nice

Leave a Reply