ये दिल हर एक पे निसार मत करना

ये दिल हर एक पे निसार मत करना ,

क्या खबर किस जगह
पे रुक जाये सास
उसका एतबार मत करना

आईने की नज़र न लग जाये इस तरह से श्रृंगार मत करना
……..@आजीज शेख…।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Anjali Gupta - January 7, 2019, 4:19 pm

    bahut khoob

  2. Devesh Sakhare 'Dev' - January 7, 2019, 4:46 pm

    लाजवाब

  3. राही अंजाना - January 8, 2019, 7:44 pm

    वाह

  4. Mithilesh Rai - January 11, 2019, 9:22 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply