व्यापार

दिल की जो बातें थीं सुनता था पहले,
सच ही में सच था जो कहता था पहले।
करने अब सच से खिलवाड़ आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

कमाई की खातिर दबाता है सब को ,
गिरा कर औरों को उठता है खुद को।
कि जेहन में उसके जुगाड़ आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

मुनाफे की बातें ही बातें जरूरी।
दिन में जरूरी , रातों को जरूरी।
देख वायदों में उसके करार आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

मूल्यों सिद्धांतों की बातें हैं करता,
मूल्यों सिद्धांतों की बातों से डरता,
कथनी करनी में तकरार आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

नहीं कोई ऐसा छला जिसेको जग में,
शामिल दिखावा हर डग, पग, रग में।
जब करने अपनों पे प्रहार आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

पैसे की चिंता हीं उसको भगाती,
दिन में बेचैनी , रातों को जगाती।
दौलत पे हीं उसको प्यार आ गया,
लगता है उसको व्यापार आ गया।

अजय अमिताभ सुमन:सर्वाधिकार सुरक्षित

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. Anjali Gupta - March 22, 2019, 11:25 am

    Nice

  2. Neha - March 22, 2019, 2:45 pm

    Nice

  3. देवेश साखरे 'देव' - March 23, 2019, 6:00 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply