दीवार

उसने मेरे दिलो दीवार के पार देख लिया,
मुझसे पूछे बिना ही मुझमे यार देख लिया,

बैठा तो था मैं अंधेरे की चौखट पर गुमसुम,
पर वही था जिसने मुझमे प्यार देख लिया।।

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Antariksha Saha - April 8, 2019, 12:42 am

    Bahut achey

  2. देवेश साखरे 'देव' - April 10, 2019, 1:23 am

    वाह

  3. Poonam singh - April 11, 2019, 12:25 pm

    Good

Leave a Reply