मुक्तक

कदम दर कदम मै बढाने चला हूँ।
सफर जिन्दगी का सजाने चला हूँ।
ज़माने की खुशियाँ जहाँ पें रखकर
दौर जिन्दगी बनाने चला हूँ।।

योगेन्द्र कुमार निषाद
घरघोड़ा

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

शख्सियत मेरी घुली हुई है मेरे पराये से अहसास में शक्ल ओ अक्ल दोनों दिख जायेंगी, आईने अल्फ़ाज में..

Leave a Reply