har palme ek khwahis

Har pal me ek hi khwahis

Ki humne

Uski ek khwshis ban jane ki

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

1 Comment

  1. Hemant Pandit - January 9, 2018, 10:55 am

    So swt

Leave a Reply