Claimed change

भंवरों को नहीं भाता मकरंद
तितलियां करती क्रंदन
फिजा जो रुत बदल रही है
अब हर कली धूप में जल रही है |

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:35 pm

    Waah

Leave a Reply