//बेजा कब्जा// (नवगीत)

नाचत हे परिया

गावत तरिया
घर कुरिया ला, देख बड़े ।

सुन्ना गोदी अब भरे
दिखे आदमी पोठ
अब सब झंझट टूट गे
सुन के गुरतुर गोठ

सब नरवा सगरी
अउ पयडगरी
सड़क शहर के, माथ जड़े ।

सोन मितानी हे बदे,
करिया लोहा संग
कांदी कचरा घाट हा
देखत हे हो दंग

चौरा नंदागे,
पार हरागे
बइला गाड़ी, टूट खड़े ।

छितका कोठा गाय के
पथरा कस भगवान
पैरा भूसा ले उचक
खाय खेत के धान

नाचे हे मनखे
बहुते तनके
खटिया डारे, पाँव खड़े ।।

.रमेश चौहान

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Neelam Tyagi - September 24, 2016, 11:48 pm

    Nice

  2. Anirudh sethi - September 24, 2016, 11:58 pm

    bahut khoob

  3. Priya Bharadwaj - September 25, 2016, 12:24 am

    laajbaab

  4. Puneet Sharma - September 25, 2016, 4:39 pm

    bahut bahut muda rachna!

  5. Panna - September 25, 2016, 8:15 pm

    nice

    • ramesh chauhan - November 6, 2016, 9:43 pm

      छत्तीसगढ़ी नवगीत

      • ramesh chauhan - November 6, 2016, 9:45 pm

        छत्तीसगढ़ी नवगीत के ये प्रयास ला सराहे बर आपके अंतस ले आभार

Leave a Reply