Other

मुक्तक

मैं कबतलक तेरा इंतजार करता रहूँ? मैं कबतलक तुम पर ऐतबार करता रहूँ? मुझे खौफ सताता है तेरी बेरुखी का, मैं कबतलक खुद को बेकरार करता रहूँ? मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

एक उम्मीद फिर से छुट गई।

एक उम्मीद फिर हाथ से छुट गयी, देखते ही देखते एक और रिस्ता टुट गई। इस तरह तोड़ा है— मतलबी दुनिया मेरा दिल । अब जिन्दगी भी हमसे ऱूठ गयी।। »

कितना भी ज़िद्दी बन जाऊँ

कितना भी ज़िद्दी बन जाऊँ, माँ थोड़ा भी न गुस्सा होती है, एक निवाला अपने हिस्से का खिलाकर माँ फिर चैन से सोती है।। -मनीष »

मुक्तक

हम जिंदगी में गम को कबतक सहेंगे? हम राह में काँटों पर कबतक चलेंगे? कदम तमन्नाओं के रुकते नहीं मगर, हम मुश्किले-सफ़र में कबतक रहेंगे? मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मैं जी रहा हूँ तुमको पाने की आस लिए! मैं जी रहा हूँ सीने में तेरी प्यास लिए! यादें बंधी हुई हैं साँसों की डोर से, चाहत के रंगों में तेरा एहसास लिए! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

प्रेम

असतील तुझ्या साठी हे फक्त दोन शब्द.. पण मी तुला मानलंय माझं आयुष्य, तुझं नाव जरी कोणाकडून ऐकलं, तर चेहऱ्यावर येत माझ्या हास्य… तू आहेस माझ्यासाठी खूप खास, करतोस तू माझ्या प्रत्येक श्वासात वास.. वाटतंय मला तुझ्याशी खूप बोलावं, तुझ्यासोबत थोडंसं हसावं… नशिबाने मला साथ दिली नसेल , पण खरं सांगू , तुझ्याशिवाय माझ्या आयुष्यात दुसरं कुणी नसेल.. माहित नाही प्रेम काय आहे, पण जे काही आहे ते फक्त... »

आई

आई तुझ्यासाठी मी काय लिहू, कसे लिहू आणि किती लिहू, तुझ्या महतीसाठी शब्दच अपुरे आहेत, तुझ्या समोर सगळे जगच फिके आहे ।। आई तुझ्याबद्दल बोलायला मला, शब्दच उरणार नाहीत, आणि तुझे उपकार फेडायला मला हजारो जन्म पुरणार नाहीत ।। आजपर्यंत तू माझा प्रत्येक हट्ट पूर्ण केला, अगदी निस्वार्थ भावनेने, तसेच माझी काळजी घेतलीस निष्ठेने ।। माझ्या आयुष्यातील शांतता तू, माझ्या मनातील गारवा तू , अंधाऱ्या आकाशातील चंद्र त... »

मुक्तक

मैं जागता क्यों रहता हूँ तन्हा रातों में? नींद उड़ जाती है ख्वाहिशे-मुलाकातों में! सीने में नजरबंद हैं वस्ल़ की यादें, बेखुदी में रहता हूँ तेरे ख्यालातों में! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मैं जागता क्यों रहता हूँ तन्हा रातों में? नींद उड़ जाती है ख्वाहिशे-मुलाकातों में! सीने में नजरबंद हैं वस्ल़ की यादें, बेखुदी में रहता हूँ तेरे ख्यालातों में! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

टूट गया हूँ मैं गमे-अंजाम देखकर! टूट गया हूँ मैं गमे-नाकाम देखकर! रो रही है चाहत राहे-तन्हाई में, तेरी बेवफाई का पैगाम देखकर! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

Page 3 of 3612345»