Other

पैरों से कभी चल न सका वो हाथों से बढ़ रहा है अपनी मंजिल की ओर

पैरों से कभी चल न सका वो हाथों से बढ़ रहा है अपनी मंजिल की ओर

1. टूट चुका हू फिर भी मिटा नही हू | सूख चुका फिर भी गिरा नही हू | करुगा एक दिन साकार अपना सपना | ये सोच कर राह से भट्का नही हू | 2. Manjil Insaan Ke Hausle Ajmati Hai.. Sapnon Ke Parde Ankhon Se Hatati Hai Kisi Bhi Baat Se Himmat Na Harna… Thokar he Insaan Ko Chalna Sikhati Hai.. Note: True Story »

Navratri Pooja

Navratri Pooja

Mitti ka tan hua pavitar Ganga ashnaan seAntah karan ho jaaye pavitar Jugdembe ke dhayan seSarv Mangal Maanglay Shive sawarth sadhakeSharnaye Triyambke Gorry Narayani namohustuteShakati shakati do mujhe karu tumhara dhayanPath nirvighan ho tera sabka ho kalyaanHirday sainghasan per aa baitho meri MaatSuno vinay mum din ki jug janani vardaatSunder Deepak ghee bhara karu aaj taiyaarGayaan ujaalla Ma... »

Ganesh Chaturti

Ganesh Chaturti

Khushian ho overflow, Masti kabhi na ho low, Dosti ka surur chaya rahe, Dhan aur shorat ki ho bauchar, Aisa aaye aapke liye GANESHA PUJA KA TYOHAR! »

ये सोच हमेशा कायम रखना दोस्तों….

ये सोच हमेशा कायम रखना दोस्तों…. राह चलती अकेली लड़की.. मौका नहीं एक जिम्मेदारी है. Happy women’s daY✌          Respect »

जीवन की पुस्तक

मेरे जीवन की पुस्तक को है पढ़ पाना बड़ा मुश्किल , कि इसमें दुःख है पीड़ा है सुख पाना बड़ा मुश्किल . ये पुस्तक आज भी यूँ मीर स्वर्णिम ही रही होती , तुझे पाना बड़ा मुश्किल तुझे खोना बड़ा मुश्किल… …atr »

मेरी आदत

मुझे अब भी हवाओं में तुम्हे सुनने की आदत है , मुझे अब भी निशाओं में तुम्हे चुनने की आदत है .. मैं अब भी फ़िज़ाओं में तुम्हे महसूस करता हूँ , मुझे अब भी घटाओं में तुम्हे बुनने की आदत है ….. …atr »

मैं और वो

चन्दन मेरा वजूद है लिपटे हुए हैं सांप , बेबस की ये दवा है क्या मीर किया जाये …. गुलजार करने आया था वो बागबान मानिंद , गुलसन उजाड़ कर फिर वो मीर चल दिया .. …atr »

घर याद आया .

फिर मुझको मेरा घर याद आया . अकेला था मेरा मन जब , न था कोई भी जब साया . फिर मुझको ….. मैं खाने जब भी जाता हूँ , तो माँ की याद आती है , अकेले सोचता हूँ जब, मुझे पल पल रुलाती है . कभी दुविधा में जब मैं था, तो ईश्वर याद न आया . कभी तबियत बिगड़ने पर , मैं माँ का नाम चिल्लाया . फिर मुझको मेरा घर याद आया …… …atr   »

आरज़ू

दबी जबान में चलो आज बात हो जाये , आँखों ही आँखों में अब मुलाकात हो जाये जज्बातों में अब आबरू बची भी रहे , चलो फिर आज दिल से दिल की बात हो जाये …. …atr »

दिल की बातें

दिल की बातें पु६कर पहुंची जहाँ दिलबर मेरा , राह में एक अजनबी ने सुन लिया वो रो पड़ा … …atr »

Page 25 of 26«23242526