Other

मोहब्बत

तुम भी बेवक्त चले हो घर अपने,  जब हमने शहादत के स्मारक पर मोहब्बत लिख दी है || ~सचिन सनसनवाल »

PANHAA

Lakhon dilo par dastak di , kuch lamho baad sabhi ke dil ne kia mana aakhir main; mujhe mere hi dil ne di “panhaa” ! »

अच्छे दिन आ गए -2

अच्छे दिन आ गए -2

»

अच्छे दिन आ गए -1

अच्छे दिन आ गए -1

»

आपकी बहुत याद है आती

आपकी बहुत याद है आती आपकी बहुत याद आती है , साथ आपका ,बातें आपकी,मुस्कान हो या चाहत आपकी, सब दिल में है, कुछ कहती और चली जाती , शायद इसे आपकी बहुत याद है आती, बोले अलफाज़ और बीतें हर साज़ मेरा पास है जैसे साथी , न जाने क्यों हर दम-हर वक़्त मुझसे बहुत कुछ ये बातें कहे जाती, मन में है सवाल कही ,उसके जवाब ढूंढे कहा ऐ जनाब बन साथी, कहु खुदसे बस यही कि दिल में आपकी बहुत याद है आती, ढूंढा कहा नही आपको मैंन... »

AASAN NAHI

Shabdon ka khel aasan hai , par unke sath khelna nahi Zindagi ek natak hai, par usme nakhre dikhana nahi Uchaiyon par pohchna aasan hai par waha tikk pana nahi Nazre jhookana aasan hai par kisi se milana nahi hawa ke rukh sath jana aasan hai , par use mehsoos kar pan nahi ankhon main aanso lana aasan hai , par un aason ke sath muskurna nahi Bura kam Karna aasan hai, par use jhel pana nahi Door se ... »

अहल ए दिल

अहद ए दिल नें ही तो हमें बर्बाद कर दिया,रकीबों की रकीबत का पर्दा-फाश कर दिया, उनके हर्फ़ों की चर्चा होने लगी हर तरफ , मेरी शराफत को भी बदनाम कर दिया, »

ZINDAGI KI AADI HO GAYI

wahi sawera , wahi ek se naam wahi ek sa logo ka ghera wahi yaar or wahi pariwaar wahi ikraar or wahi inkaar wahi hawa or wahi uska rukh wahi  paid or wahi chaw ka sukh wahi rah or wahi makan Wahi kam or wahi uski dukaan wahi kapade or wahi uski silai “Zindagi mano purani khadi ho gayi; main is zindagi ki aadi ho gayi” »

जब तक रहेगा हिंदू मुसलमान जहॉ में

जब तक रहेगा हिंदू मुसलमान जहॉ में ! रोयेगा फूट फूट के इंसान जहॉ में!! आओ गिरा दें मजहबी दीवार जहॉ से ! हो जाय ज़रा सत्य का सम्मान जहॉ में !! »

!!!! SAGAR KE DIL SE !!!! aisa dard dete hai apne aksar na seh pata hun.. na sambhal pata hun na ro pata hun na hass pata hun na marr pata hun na phir jee pata hun na shikayat kar pata hun na koi fariyaad kar pata hun bas simat kar reh jaata hun apne dard ko apne aagosh main le kar phir jeene ke liye so jata hun main phir se apno ka naya dard lene ke liye ik nayi aur jayada himmat jhuta’ta h... »

Page 16 of 19«1415161718»