Other

निसार

निसार होना आसान नहीं , किसी का होना आसान नहीं आस हो जो ना की कुछ भी आसान नहीं , और जब ना और हां का बन्धन ना हो तो निसार होना मुश्किल नहीं ! »

पहचान

रिवाजो से हटकर जो अपनी राह बना ले, जिन्दा वही है , जो अपनी पहचान बना ले ! »

BEST

BEST

Best food= Thoughts Best teacher= Experience Best dress= Smile Best hobby= Service (surplus time) Best medicine= Laughter Best sport= Duty Best lesson= Patience Best book= Life Best student= Attempt Best relation= Love »

जज्बा

जज्बा

एक बार ठान ले तो एक पर्वत  है तू जो अगर यूँ ही बीत जाने दे , तो रेत जो एक आकार दे खुद को , तो एक मूरत है तू जो बस यूँ ही छोड दे , तो गीली मिट्टी जो तू चाहे तो खुद को रंगों में ढाल के इंद्रधनुष बन जा जो बारिश के साथ बह जाये, तो मटमैला कर दे सब तेरी किस्मत तेरे खुद के जज्बे से है जज्बा रहा तो जिन्दादिली भी रहेगी नहीं तो जिंदगी बिना जीवन सी रहेगी.. »

समर्पण…

समर्पण…

बाती की इक रोज ,दीए से लड़ाई हो गयी मगरूर हुई बाती खुद पर, लगी दीए पर भड़कने मैं जलकर खाक हो जाती हूँ, और तारीफे बटोरता है तू , नहीं जलूंगी तेरे साथ अब ओर तय कर लिया मैंने , तू ढूंढ ले कोई ओर अब नहीं रहना संग तेरे ! चुप-चाप सुनता हुआ दिया अब बोल उठा तू जलकर खाक हो जाती है तेरी कालस तो मैं ही समेटता हूँ तू जलती है जब-जब तेरी तपिस तो मैं ही सहता हूँ ! कैसे ढूंढ लू कोई ओर मुझे कोई और मिलेगा नहीं , तुझे... »

ये दिल…

ना चैन है,  ना सुकून है ये दिल को क्या फितूर है l करता है ये मनमानियां , करता है ये शैतानिया सुनता नहीं बेधड़क है ये दिल, जानिया धड़कता है जब ये सीने मे, मजा है फिर तभी जीने मे ना रिवाजो मे , ना समाजो मे उड़ता फिरे ये खयालो मे , कभी सजदे मे है, कभी शिकवे मे है , कभी किसी के हिस्से मे है ना चैन है , ना सुकून है ये दिल को क्या फितूर है ! »

नारी हूँ मै…

नारी हूँ मै, नादान नहीं हूँ निस्छल हूँ , निर्लज नहीं हूँ ! पथ की उलझन सुलझाना चाहु पग के बंधन तोडना चाहु सिर्फ यही अपराध करु मै अपने मान की पहचान करु मै ! अभिमान को अपना मान बताए और मेरी पहचान सिया बतलाए जब हर घर सिया विराज रही है तब क्यू हर घर राम नही है ! जब मेरे प्रश्नो का तुम पर उत्तर नही है मेरे मन के बन्धनों का हल नहीं है तो फिर क्यू स्वयं को ज्ञानी बतलाए स्वयं को मेरा स्वामी बतलाए ! नारी हू... »

कुछ

कुछ ना होने का भी कुछ तो मतलब होगा यूँ ही तो नहीं कुछ ना हुआ होगा वो मतलब खोज लीजिए कुछ ना होना कुछ होने मै बदल जाएगा जिंदगी का ढंग आपके ढंग मे ढल जाएगा ! »

अजीब है दुनिया

अजीब है दुनिया अजीब बाजार है दुनिया जिंदगी का लिबास पहने मुर्दा है दुनिया ये रूह बेचकर रिवाज ख़रीदा करती है मन के अहसास जलाकर पथर पूजा करती है जात को अपनी पहचान बता , अपनी ओकात छुपाया करती है गाय को माता बताकर गुंडागर्दी , और नारी को पैर की जूती बताकर परुषार्थ सिद्ध करती है अजीब बाजार है दुनिया यहाँ सभी जिन्दा है, पर अभी मुर्दा है दुनिया ! »

मैं वो नहीं

मैं वो नहीं जो पास रहकर तुझे हँसाउगा मैं तो वो हूँ जो रहू या ना रहू लैकिन तेरी मुस्कुराहट की वजह कहलाऊँगा ! मैं वो नहीं जो उजालो मैं तेरा साया कहलाऊंगा मैं तो वो धुल हूँ जो अंधेरे से घबराकर तेरे माथे से टपके पसीने के सहारे तेरे पैरो से लिपट जाऊँगा ! मैं वो नहीं जो याद आकर तेरी आँखों से छलक जाऊँगा मैं तो वो हूँ जो ख्यालो की जमी पर उग कर तेरी जिंदगी को खुशहाल कर जाऊँगा ! मैं वो नहीं जो रीती – ... »

Page 1 of 14123»