Sher-o-Shayari

किस से सिकवा करू

किस से सिकवा करू, किस से सिकायत करू ; जब अपना समझा ही नही तो किस से दिल की बात कहूँ। ज्योति। »

फूलों से फूल कर अक्सर कुप्पा हो जाते हैं

फूलों से फूल कर अक्सर कुप्पा हो जाते हैं

फूलों से फूल कर अक्सर कुप्पा हो जाते हैं, चन्द शब्द मेरे तुमसे जब चुप्पा हो जाते हैं।। – राही (अंजाना) »

बेमोल थे जो झूठे बाज़ार में

बेमोल थे जो झूठे बाज़ार में

बेमोल थे जो झूठे बाज़ार में, वो सारे साहूकार बिक गए, मैं अनमोल ही था सच है,जो मेरा कोई मोल न लगा।। – राही (अंजाना) »

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है, तिरंगे से लिपट कर एक दिन वो तिरंगा हो जाता है।। राही (अंजाना) »

मैं अमन पसंद हूँ

मैं अमन पसंद हूँ, मेरे शहर में दंगा नहीं शांति रहने दो..!! लाल और हरे में मत बांटो, मेरी छत पर तिरंगा रहने दो..!! ??जयहिन्द??✍वाहिद »

बातें बड़ी बनाने लगे, हम शहर में पाँव जमाने लगे

बातें बड़ी बनाने लगे, हम शहर में पाँव जमाने लगे

बातें बड़ी बनाने लगे, हम शहर में पाँव जमाने लगे, दिन में सोया करते थे, हम रातों को साथ जगाने लगे।। राही (अंजाना) »

बड़ी सरलता से वो यूँ अपने बाल संवारा करती है

बड़ी सरलता से वो यूँ अपने बाल संवारा करती है

बड़ी सरलता से वो यूँ अपने बाल संवारा करती है, चोटी की हर गुथ में वो मेरे गम बुहारा करती है।। राही (अंजाना) »

Guftagu Band Na Ho

Guftagu Band Na Ho

»

मुख पर हँसी और दिल में दर्द लिए बैठे हैं

मुख पर हँसी और दिल में दर्द लिए बैठे हैं, कुछ लोग इसी तरह हमें गुमराह किये बैठे हैं, रहते हैं साथ मगर खुद से दूर किये बैठे हैं, कुछ लोग जलकर भी रौशनी किये बैठे हैं।। राही (अंजाना) »

Harkat

Ek hasin harkat hai, esa ho jana tumhari ankhon main chalna aur kho jana… »

Page 4 of 140«23456»