Sher-o-Shayari

“आवारगी” #2Liner-29

ღღ__इक उम्र गुज़ारी है आशिक़ी में, तो जाना है; . कुछ नहीं मिलता, इसमें इक आवारगी के सिवा !!……..‪#‎अक्स‬ »

naakam mohbbat

!!!! SAGAR KI KALAM SE !!!!! itne mash’hoor ho gaye hum nakam jo hue mohabat main ki hum se hamari hi dastaan bayaan kar gaya ik ajnabi @@ SAGAR @@ 24/12/15 :: 2:00 PM »

“साँसें”

ღღ__बाकी हैं चन्द साँसें अब, बेज़ार से दिसम्बर की; . एक नए दिन की तलाश में, पूरा साल ही जा रहा है !!…….‪#‎अक्स‬ »

“ठंड” #2Liner-28

ღღ__माफ़ करना पर आज, कोई शायरी नहीं है “साहब”; . कि रिश्तों की ठंड में, लफ्ज़ भी जम गये मेरे !!……..‪#‎अक्स »

par shaayad pyaar bhot hi khoobsurat hai….

pyaar sirf ek alfaaz hai humare liye… jiski na koi surat hai, na hi koi murat hai… par aapke alfaazon se andaaza lgate hai, jo bhi ho, par shaayad pyaar bhot hi khoobsurat hai…. »

” फैसला” #2Liner-27

ღღ__मेरे गुनाह-ए-इश्क़ का, कोई फैसला तो सुना दो “साहब” . इस दिल को समझाने में, कुछ वक़्त भी तो लगता है!!…..‪#‎अक्स‬ »

kyunki aaj hum khud k liye bhi laapta hai…

chal pdii hu aise ek raste pr, jiski manzil ka na koi pta hai…. khushiyaan dene ki koshish ki maine bhot, yahi meri sabse bdii khta hai…. meri talaash mein mat nikalna yaaron, dhund na paoge humein…. kyunki aaj hum khud k liye bhi laapta hai…. »

khaabon k zariye hi tumse milna ab pasand hain humein…

dil-o-jaan se chahte hain hum tumhein… hakiqut mein milna shaayad ab naseeb mein nahi… isliye jaldi palko ka milan aankhon se kra dete hai… kyonki khwaabon k zariye hi tumse milna, ab pasand hain humein… »

” इक जिद्द अधूरी रह गयी “

थे क़रीब इक दूजे के …. लेकिन फिर भी दरम्यां हमारे , दुरी रह गयी …. इबादत करते हुए , इक भी दर ना छोड़ा ख़ुदा का … फिर भी कोई मज़बूरी रह गयी.. कह देते थे , महफ़िल – ए – यारों में …. ” वो हैं मेरी ” …   . बस यही इक जिद्द अधूरी रह गयी …..   पंकजोम ” प्रेम “ »

” धुंधला नजारा “

मोहब्त का ले सहारा उन्हें पाने की सोची….. ख़ुद ही बे – सहारा हो गए …..   जिनका अक्श कभी ओझल ना हुआ , नजरों से …. वही आज इक धुंधला नजारा हो गए ….   जिन सागरों के किनारों पर रुक जाती थी …. हमारी कश्ती – ए – चाहत ….   आज वहीँ सागर बे – किनारा हो गए …..   पंकजोम ” प्रेम “ »

Page 125 of 142«123124125126127»