Sher-o-Shayari

“ख्वाहिश” #2Liner-51

ღღ__ख्वाहिश है इश्क की, और वो भी सुकून के साथ; . तुम भी ना साहब, कभी-2 अच्छा मजाक करते हो !!……‪#‎अक्स‬ . »

“यादें” #1Liner-50 ….

ღღ__दिल तो करता है कभी-2, तेरी यादों को ज़हर दे दूँ साहब; . फिर सोंचता हूँ, भला ये भी, कोई उम्र है ख़ुदकुशी करने की!!….‪#‎अक्स‬ . . »

इज़हार ए तसव्वुर

  इस वीराने में अचानक बहार कहां से आ गयी गौर से देखा तो ये महज़ इज़हार ए तसव्वुर था »

ख़ता दर ख़ता

ख़ता दर ख़ता

सोच कर यह , ख़ता दर ख़ता किए जा रहे हम , प्यार में तो वोह मिलने से गए , सजा देने ही शायद आ जाएँ लौट कर                                                           …… यूई »

तेरी यादों के कागज को

तेरी यादों के कागज को

तेरी यादों के कागज को ,   छुपा रखा है ,   अपनी पलकों से थोड़ा पीछे ,   कहीँ सालों से बह्ते आँसू ,   इनको गीला कर ,   धुँधला ना कर दे I                                   …… यूई »

गम-ए-इशक

गम-ए-इशक

गम–ए–इशक में डूब कोई        मरीज–ए–मोहब्बत ना बच पाया रफ्ता रफ्ता सरकती मौत देखी        यूई ना मर पाया ना जी पाया                                                                                …… यूई »

” हार बैठा हूँ !” #2 Liner- 49

ღღ__अक्सर खुद ही खुद से बाज़ियॉं, खेलता रहा साहब; . डर तो अब लगता है, जब खुद को हार बैठा हूँ !!…..#अक्स‬ . »

“अक्स” #2 Liner-48

ღღ__कशिश आज भी वही है, और शिद्दत भी वही है “साहब”; . महज़ ख्वहिशों का तेरी, “अक्स” बदला हुआ सा लगता है!!……#अक्स . »

मुलाकात

मुलाकात

      नींद की चाहत तो नही होती ,       बस इक आस सी रहती है ,       कम्बख्‍त आ जाए तो शायद ,       ख्वाब में ही मुलाकात हो जाए                                                    …… यूई »

कसम ख़ुदा की

कसम ख़ुदा की

गर जमाने ने किया होता ,              कसम ख़ुदा की, सब कर गुजरते हम I अफसोस यह खंजर उन हाथों ने मारा              जिनको ता–उमर दुआओं में चूमते रहे हम I                                                                                 …… यूई »

Page 114 of 137«112113114115116»