Sher-o-Shayari

वो खुशनुमा चेहरा

वो खुशनुमा चेहरा कितना नूरदार है आज  की रात जैसे फैल गया हो चांद पिघलकर उनके रूखसारों पर »

शीश महल

शीश महल

जब से तुझको पाया है , जिव देखो तुझ्सा लगता है , दुनियाँ मानो शीश महल , हर चेहरा ख़ुद का लगता है I                                                                                                                                          …… यूई »

“ख्वाब” #2 Liner-54

ღღ__आँखों को ख्वाब की, इस कदर भूख है साहब; . जैसे लगता है ख्वाब में, “तुम” आ ही जाओगे!!…..‪#‎अक्स . »

“इन्तेहा” #2Liner-53

तसव्वुर में तेरे, अब तो कटती नहीं रातें; . आखिर तेरे इंतज़ार की, कोई इन्तेहा तो हो!!….#अक्स »

“रस्ता”……#2Liner-52

ढूंढने से ही मिलता है, पर रस्ता ज़रूर होता है; जो महँगा होता है कभी, वो सस्ता ज़रूर होता है!!…..#अक्स »

“ख्वाहिश” #2Liner-51

ღღ__ख्वाहिश है इश्क की, और वो भी सुकून के साथ; . तुम भी ना साहब, कभी-2 अच्छा मजाक करते हो !!……‪#‎अक्स‬ . »

“यादें” #1Liner-50 ….

ღღ__दिल तो करता है कभी-2, तेरी यादों को ज़हर दे दूँ साहब; . फिर सोंचता हूँ, भला ये भी, कोई उम्र है ख़ुदकुशी करने की!!….‪#‎अक्स‬ . . »

इज़हार ए तसव्वुर

  इस वीराने में अचानक बहार कहां से आ गयी गौर से देखा तो ये महज़ इज़हार ए तसव्वुर था »

ख़ता दर ख़ता

ख़ता दर ख़ता

सोच कर यह , ख़ता दर ख़ता किए जा रहे हम , प्यार में तो वोह मिलने से गए , सजा देने ही शायद आ जाएँ लौट कर                                                           …… यूई »

तेरी यादों के कागज को

तेरी यादों के कागज को

तेरी यादों के कागज को ,   छुपा रखा है ,   अपनी पलकों से थोड़ा पीछे ,   कहीँ सालों से बह्ते आँसू ,   इनको गीला कर ,   धुँधला ना कर दे I                                   …… यूई »

Page 105 of 128«103104105106107»