Sher-o-Shayari

फीकी जिंदगी

कौन सा रंग भरू, किस रंग से उकेरू मैं जिंदगी की तस्वीर फीकी जिंदगी को र्ंग नही जचते| »

मेरी हिंदी

दिल से दिल तक अपना रस्ता बना लेती है, एक हिंदी है जो सबको अपना बना लेती है।। राही (अंजाना) हिंदी दिवस की शुभकामनाएं। »

चेहरा तेरा

हजारों पहरों के बीच भी चेहरा तेरा देख लेता हूँ, मेरी आँखों में तुझको मैं इतना गहरा देख लेता हूँ।। राही (अंजाना) »

किसी साज़ की आवाज़

किसी साज़ की आवाज़

किसी साज़ की आवाज़ ने मेरे दिल को छुआ ही नहीं कबसे, तुम्हारी साँसों के समन्दर की आवाज़ में मैं डूब गया जबसे।। – राही (अंजाना) »

बारिश

ये बारिश ये हसीन मौसम और ये हवाये लगता है आज मोहब्बत ने किसी का साथ दिया है. »

ज़िद्दी

ये दिल बहुत ज़िद्दी है मेरा! मंज़िल-द़र-मंज़िल सफ़र करता है ठिकाना नहीं कोई इसका, ये सड़कों पर बसर करता है »

उन्हीं की अदालत है, उन्हीं के वकील सारे

उन्हीं की अदालत है, उन्हीं के वकील सारे, अब बेगुनाही के सबूत मेरे सब उन्हीं के हाथ हमारे।। – राही (अनजाना) »

निशानी ऊँगली पर पहन कर मेरी छुपाते हुए

निशानी ऊँगली पर पहन कर मेरी छुपाते हुए

निशानी ऊँगली पर पहन कर मेरी छुपाते हुए, वक्त-वक्त पर वक्त का गिनना तेरा अच्छा लगा, कहा बहुत कुछ ख़्वाबों में हर रात तुमने मुझसे, और मुझे तेरा मुझसे नज़रें चुराना अच्छा लगा।। – राही (अंजाना) »

बारिश

बारिश भी कहीं भी कभी भी हो जाती है सूखे मन को नम कर से ऐसा कोई नहीं »

किस से सिकवा करू

किस से सिकवा करू, किस से सिकायत करू ; जब अपना समझा ही नही तो किस से दिल की बात कहूँ। ज्योति। »

Page 1 of 138123»