Hindi-Urdu Poetry

तेरा सजदा – 108

तेरा सजदा – 108           कोई तेरी आग में ख़ुद को जला जाता है कोई ख़ुद की आग में सबको जलाता है                                                                                                      …… यूई »

तेरा सजदा – 107

तेरा सजदा – 107           कोई तेरी रोशनी में जीवन भर जीता है कोई तेरी रोशनी को जीवन भर खोता है                                                                                                      …… यूई »

तेरा सजदा – 106

तेरा सजदा – 106           कोई तेरे पावन इश्क़ की रो में सर झुका कर बैठा रह्ता है कोई ख़ुद की दुनियावी चाहतों में नशों में लिप्त रह्ता है                                                                                                      …… यूई »

तेरा सजदा – 105

तेरा सजदा – 105           कोई अपनी हर सफलता को तेरी दुआ कह जाता है कोई अपनी हर सफलता में ख़ुद की दुहाई देता है                                                                                                    …… यूई »

तेरा सजदा – 104

तेरा सजदा – 104           कोई ग़ुरबत के वक्त को तेरी रज़ा मान हाथ जोड़ जाता है कोई दौलत की माया में ख़ुद के गुणगान गाता रह जाता है                                                                                                    …… यूई »

तेरा सजदा – 103

तेरा सजदा – 103           कोई तुझे पाने के इंतज़ार में ही मस्त रह्ता है कोई ख़ुद की चाहों को पाने में ही खोया रह्ता है                                                                                                    …… यूई »

तेरा सजदा – 102

तेरा सजदा – 102           कोई तेरी जूठन को भी चूम कर अपनाता है कोई तेरे प्रशाद में भी स्वाद ढूंढ़ ना पाता है                                                                                                    …… यूई »

तेरा सजदा – 101

तेरा सजदा – 101           कोई बिना ख्वाहिश के आजन्म तुझ्से मिलते रह्ता है कोई बिना ख्वाहिश के कभी याद भी ना तुझे करता है                                                                                                                                                                                     …… यूई »

तेरा सजदा – 100

तेरा सजदा – 100           कोई बंद आँख कर तेरे मन में उतर जाता है कोई खुली आँखों से भी तुझे ना जान पाता है                                                                                                  …… यूई »

तेरा सजदा – 99

तेरा सजदा – 99           कोई तेरे सामने कुछ भी ना बोल पाता है कोई तेरे सामने इच्छाओं का पिटारा खोल जाता है                                                                                                  …… यूई »

Page 476 of 593«474475476477478»