Hindi-Urdu Poetry

रसम-ए-उल्फत

»

तुझ बिन……

»

भस्म में डूबी रूहों को

»

“शिकायत” #2Liner-67

ღღ__बहुत खामोश रहते हो, तुम भी आज-कल “साहब”‘; . ख़ुदा से है शिकायत या, खुदी से नाराज़ रहते हो !!…..‪#‎अक्स‬ . »

ज़माना बदल गया

वो ज़माना गया जब एक नारी अपने हक़ के लिए लड़ा करती थी। वो ज़माना गया जब एक नारी अपनी जगह बनाने के लिए मरा करती थी। आज की नारी इतनी सक्षम है कि गलत को गलत कह सके आज की नारी इतनी सक्षम है कि गलत को सही कर सके । उसके खिलाफ खड़े होने वालों को करारा जवाब दे सके हर चीज़ मे दोषी मानने वालों को तिनके की तरह उछाल सके। प्यार करो तो प्यार देने में वो पीछे नहीं इज़्जत दो तो इज़्जत देने मे वो पीछे नही। अात्मनिर्भर है ... »

वो माँ है

वो माँ है आँखों में छुपी हमारी हर ख़ुशी , हर मुस्कराहट का राज़ है तो वो माँ है, गम हो की दुख़,दर्द ही क्यों न हो दिल मे , उस दर्द में छुपे हर सवाल का जवाब है तो वो माँ है, दुखाये दिल जब ये दुनिया कही हर मुकाम पे, संभाल मुझे समझाने वाली वो है तो वो अपनी माँ है, आंसू आए जहाँ चहेरे पर जब कभी , हाथ आँचल संभाले आये वो साथ मेरी माँ है, ये मुस्कान, ये हँसी, चहेरे पे जो हरदम दिखे,दुनिया की तब्दील मुश्किलों क... »

ज़िन्दगी में रिश्ते भी अक्सर आते जाते हैं

ज़िन्दगी में रिश्ते भी अक्सर आते जाते हैं! चाहो जिसे भी उम्रभर वे लोग भूल जाते हैं! जब हालात के तूफान से गुजरता है कोई, उसका दर्द देखकर तो बस लोग मुस्कराते हैं! Composed By #महादेव »

एक ऐसी खता

»

बरसों गुज़रें

»

नजर-ए-इनायत

»

Page 438 of 531«436437438439440»