Hindi-Urdu Poetry

Fir Mosam brsa,

fir Mosam brsa, fir aasman saaf hua.. fir dil dhadka.. fir kuch ehsas hua.. lga jb aisa tb koi na Pass hua.. »

Kagaj K panno me

Kagaji panno me zinda h ishq mera.. . wrna tumne to ise marne me koi kasak nhi chodiiii »

kya dusmani

Kya dusmani rhi h khuda k imujse jo muje usse milne nhi de rha… »

Mere se kya dusmani h???

Mere se kya dusmani h??? Saaf Saaf btate kyu nhi muje??? Kyu itna roti hu m, jutha hi shi kuch to izhaar kro. .intzaar to m jnmo tk kr skti hu. .par tum Aitbaar to kro.. Mere har bimari ki wgeh jo ho tum, ilaaj tum hi ho skte ho.. mujse pyaaar to kro.. »

Khuda b mera ho chuka hota,

Khuda b mera ho chuka hota, agr mne use pukara hota, tumhari jgeh… »

Dard e dariya

Dard-e- Dariya h bhut bda, ek muthi raat se iska kya hoga???? »

Wo Shaks

Wo shaks jo din bhar muskurati rhi…… aaaj royi bhut Raat bhr Muskurakar… »

hui h nafrat is kadar unse…..

hui h nafrat is kadar unse ki ab to baddua k liye b dua na kru… »

मुक्तक 5

जिंदगी बीत जाती है किसी को चाह कर कैसे?  कोई  बतलाये  तो मुझको मैं जीना भूल बैठा हूँ… अदा भी तुम ,कज़ा भी तुम ,मेरे दिल की सदा भी तुम, तुम्ही  अब चैन हो मेरे ,मेरे दिल की दुआ भी तुम.. तुम्हारे प्यार की उल्फत मेरे दिल की ये तन्हाई, तुम्हारे प्यार की आहट मुझे जब शाम को आई सुबह तक सो न पाया मैं, बस यही याद थी दिल में, कि मैं तूफ़ान में अटका ,नहीं हो तुम भी साहिल में… …atr »

मुक्तक 4

यहाँ हर शख्स है तेरा, वहां हर कब्र है मेरी, जहाँ कैसा बनाया है खुद ने क्या इरादा था? अब तो हालात भी मुझसे मिचौली आँख करते है, को सपनो में आता है ,किसी को याद करते है. मुझे है डर कहीं फिर से किसी हूरों की महफ़िल में, उड़ाया फिर से न जाये ,ये कुचला जिगर मेरा.. …atr »

Page 374 of 381«372373374375376»