Hindi-Urdu Poetry

कुछ तो बात जरूर…..

कुछ तो बात जरूर रही होगी तुम दोनो के दार्मियां मोहोब्बत का रिश्ता क्यू समझोते पर आ गया मिला हैं तुमको भी वंही उससे बदले में दिल के जो तुमने उसको इस मोहोब्बत में दिया…………..!! -देव कुमार »

Meri ankhon main……

Meri ankhon main aansuon ka pehra hai Mera dil bahut sehma hai Kyun hath rakhte Ho mere dil par tumsab Mera jakham abhi bahut gehra hai………!! -Dev Kumar »

लोग करने लगे है……

लोग करने लगे है दिल्लगी और रिस्तों को ताड ताड….! कुछ इसलिये भी मोहोब्बत अब बदनाम हो गई है….!! – देव कुमार »

नज़र

एक नज़र उसे देखने के बाद उस रोज़ से, मेरी आँखों को और कोई चेहरा नहीं दिखता।। राही (अंजाना) »

बिखरी जुल्फों की लटा……

बिखरी जुल्फों की लटा, आँखें लाल दिखाई देती है हमें तुम्हारी ज़िन्दगी बेहाल दिखाई देती है कल रात का फसाना आपका सुना था हमने भी इसलिये भी आज आप बदहाल दिखाई देती है -देव कुमार »

मोहब्बत

रूठी हुई मोहब्बत को मनाते मनाते, हम उन्हीं के चेहरे के दीवाने हो गए।। राही »

मोहब्बत

Harshit Shukla रूठी हुई मोहब्बत को मनाते मनाते, हम उन्हीं के चेहरे के दीवाने हो गए।। राही »

तुम रोक तो सकते थे….

हम तो चल दिये थे अपना कारवा लिए, मगर तुम रोक तो सकते थे हम तो चल दिये थे अपने आंसू लिए, मगर तुम रोक तो सकते थे हम तो चल दिये थे अपने गम को लेकर, मगर तुम रोक तो सकते थे हम तो चल दिये थे अपनी तन्हाई लेकर, मगर तुम रोक तो सकते थे हम तो चल दिये थे मौत की तरफ, मगर तुम रोक तो सकते थे……!! -देव कुमार »

कमजोरी

लोग जबसे खामोशी को मेरी कमजोरी समझने लगे, राही उसी दिन से बहुत ज्यादा बोलने लगा ।। राही (अंजाना) »

दुनिया

जब दुनियाँ की भीड़ में मुझे कोई सुनने वाला न था, उसने मेरे दिल पर हाथ रखा और सब समझ गई।। राही (अंजाना) »

Page 3 of 44912345»