Geet

पतंग

पतंग

न बाँधों मन पतंग को,उड़ जाने दो नवीन नभ की ओर हंस सम भरने दो,अति उमंग मे नई एक उड़ान स्वतंत्र भावों की डोर मे बंध निर्भय,करने दो अठखेलियाँ स्वच्छंद न खींचो धरा की ओर,बाँध पुरानी रस्मों,नियमों की डोर उड़ जाने दो मन पतंग को सुदूर कहीं नील गगन की ओर **** सतरंगी भूले मधुर सपनों के झिलमिल कागज से सजकर कामनाओं की सुकोमल,मृणालिनी सी तीलियों से बंधकर आनन्दमग्न भरने दो उड़ान नई,खुली हवा मे चहुँ ओर डोर रिश्तो... »

जंजीर है मज़दूर के पास, खोने के लिए

जंजीर है मज़दूर के पास, खोने के लिए

»

WO—-

(Jawaa Dilo ke dharrkan aur ehsas ko chhone ka prayas : ek shringaar rachna.)——– WO—- ——— WO…….. Muskuraa rahi–yun door se hi Kbb qarib aayegi…… Intezaar mei ,pal guzar rahe Lamhe bhi beqaraar ho rahe Sapno ki chilmann se nihaarti, Muskuraati mujhe sataa rahi Jhalak–jhalak si door se hi—- Kbb qarib aayegi—... »

Aaj khush ho rahe hain…

Karke naadaani…. Aaj khush ho rahe hain Jhelte pareshani- Aaj khush ho rahe hain Chhorr kar pehchan ki- Sabhi nishaniyaa Badh rahi hai naitikk baimaaniyaa Bannkarr ADHURE gyaani Aaj khush ho rahe hain Bhatakk rahe pashchyat ki galiyo mei Palash ke dikhawati phool chunn rahe Taras rahi bhartiyata– lagaane ko gale Pichhe hatate jo-unki kadam choom rahe Karke khud se khichaataani Aaj khus... »

Kuchh yaadein..

Ek waadaa phir Milne ka bs wada bhr rah jate hain Bah jata hai samay ka dariya wo udhar- hum idhar rah jate hain Nikal jate hai door bahut pichhe ojhal saare ho jate hai Prr jati hai dhul yaado pr khandahar nazaare ho jate hai Ujarr jati hai duniya sb registaan sa ho jata hai Tadipaar ho jati khushiya,hara-bharaa sb viran ho jata hai Haqiqat fasaanaa ho jata hai,atit ban jataa hai Itfaaq ki mitha ... »

नमो नमो नमो बुद्धाय

नमो नमो  नमो  बुद्धाय। मन हमारा शुद्ध हो जाए। कठोर वाणी त्याग दें। सत्य सबको बांट दे। कमजोरों को हाथ दें। निर्धन का हम साथ दें। अपंग के गले लग जाएं। नमो नमो नमो बुद्धाय। विचार में प्रकाश हो। करुणा पर विश्वास हो। ज्यादा की नहीं आश हो। ज्ञान हमारे पास हो। दया धर्म हम अपनाएं। नमो नमो नमो बुद्धाय।। मद से हमारा नाता न हो। झूठ हमको आता न हो। पाप से हम सब दूर रहें। कर्मों से हम सब सूर रहें।। थोड़े में ही... »

नमो नमो नमो बुद्धाय

  »

मजा आ गया होली में

सभी मित्रोजनो को होली की अग्रिम शुभकामनाये। आप सबों को होली पर एक भेट! ****** प्रेम-रस का रंग बरसाने निकली भर के झोली में ! क्युँ मैं सखियों से बिछङी क्या आया रास अकेली में ताँक रहे थे पिया गली में। धर ले गए खींच दहेली में। हाथो को पकङा रंग गालो पर रगङा मूक रही कुछ न बोली मैं । हाथो को जोङा पैरो को पकङा सुनी एक न मेरी हमजोली ने। मनभावन मेल लता-तरु सा आहा! मजा आ गया होली में!? -रमेश जय राधे- कृष्ण&... »

छत्तीसगढ़ी गीत “चल दिए तें कोन देश

छत्तीसगढ़ी गीत “चल दिए तें कोन देश

»

रविदास को गुरु बनाकर हम भी मीरा बन जाएं

रविदास को गुरु बनाकर हम भी मीरा बन जाएं

रविदास को गुरु बनाकर हम भी मीरा बन जाएं। द्वेष -कपट सब त्याग कर आज फकीरा बन जाएं। कोयला जैसा मन लेकर भटक रहा है मारा-मारा ज्ञान अगर मिल जाए तो संवर जाएगा कल तुम्हारा। रविदास के संग चलें और हम भी हीरा बन जाएं। रविदास को गुरु बनाकर हम भी मीरा बन जाएं।। क्रोध को तुम छोड़कर करम करो प्यारा-प्यारा। एक दुजे के गले लगो तो जग प्रसन्न होगा सारा। अंधकार को दुर भगा कर हम उजियारा बन जाएं। रविदास को गुरू बना कर... »

Page 11 of 12«9101112