Azadi Mubarak ho

gam tere maut ka nahin
par dosh tere dharm ka hain
es baat ko bhulu kaise
hosh mere sudh gaye toh kya
par majra yeh purey hindustaan ka hain

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hi Everyone, I am from Kolkata.Land of culture and heritage.These are my creations.Please post your comment if you like it

2 Comments

  1. राही अंजाना - July 26, 2018, 8:39 pm

    Waah

Leave a Reply