Sourabh, Author at Saavan's Posts

Claimed change

भंवरों को नहीं भाता मकरंद तितलियां करती क्रंदन फिजा जो रुत बदल रही है अब हर कली धूप में जल रही है | »