शिवम् दांगी, Author at Saavan's Posts

चेहरे

न फसाओ अपनी पलकों को खूबसूरती की रंजिस् में, के अक्सर खूबसूरत चेहरे बेबफा हुआ करते हैं। »

वतन के लिए

वतन के लिए

खून का हर एक कतरा , वतन के नाम कर देंगे। वतन की मिटटी का ये जिस्म, वतन पे कुर्बान कर देंगे। कोशिशे तुम लाख करो गद्धारों, हर कोशिश को हम नाकाम कर देंगे। कोई अंगार न छु पाये इस जमीं को, बस इतना सा काम कर देंगे। वतन की मिटटी का ये जिस्म, वतन पे कुर्बान कर देंगे। बहुत कर्ज है वतन का हम पर, मरते दम तक इसका इंतेजाम कर देंगे। सफ़ेद सी शीतल चादर ओढे वो घांटी, सेवा में उसकी हम जी जान लगा देंगे। एक कतरा भी न... »

वो प्यारे सपने

वो प्यारे सपने

कुछ तो जरूर होगा उन प्यारी सी आँखों में, सपने तो उसके भी होंगे उड़ने के आसमानों में। सहमी तो वो भी रहती होगी उस अनजानी भीड़ में, घर से दूर उस बिन पहचानी सी पीर में। अच्छे कपडे और खाने का शौक उसे भी तो होगा, पर पैसों की मार ने शौकों को तोडा होगा। उन अनजाने लोगों में अपनों की याद तो आती होगी, अपनी बेबसी देख आंखों में नमी तो आती होगी। स्कूल का बस्ता और किताबो का शौक भी तो होगा उसे, मन के एक कोने में आश... »