Ravi Bohra, Author at Saavan's Posts

सन्नाटा

रात के सन्नाटा मुझसे कुछ कह रहा था आज वो आंसू बनकर मेरी आँखों से बह रहा था सौ तो गए थे मेरे सब चाहने वाले बस वो ही अकेला मेरे साथ रो रहा था…….. »

भूल गयी

जख़्म तो बहुत दिए तुमने, मगर मलहम लगाना भूल गयी याद तो रोज आती थी आपको मेरी, लेकिन आँसु बहाना भूल गयी जब दुनिया में आपके पास कोई न हो तब मुझे बुला लेना लेकिन तब ये न कहना की तेरा नम्बर सेव करना भूल गयी »

प्यार

आँखों की खाई को तुमने बेहता समंदर बना दिया इस प्यार को ठुकराके, मुझे आवारा भवंडर बना दिया »

तेरा साथ

साथ तो तू मेरे हर वक्त रहा करती है हाँ …. वो बात अलग है की पहले तुम मेरी आँखों के सामने रहा करती थी और अब मेरी यादों के सामने रहा करती हो »

याद

आँखों के झरनो में तेरी याद बाहा करती है पलके मूँद बस ये फ़रियाद कहा करती है एक दिन बस मेरी जिंदगी से मिला दे तेरे लिए ये साड़ी जवानी बयां करती है »

रुके कदम….

एक बार रुके कदम फिर चलने लगे उनकी रूह की आग में हम पिघलने लगे हाथ अगर होता उनका मेरे हाथ में तो जहान सारा बदल देता लेकिन अकेले ही गिरके हम समलने लगे एक बार रुके कदम फिर चलने लगे ……..!!! »

दिल की बातें …

कभी दिल से दिल मिलाकर तो देखो उस के लिए अपने अरमान जगाकर तो देखो जालिम आंखों से तो हर कोइ मुमुस्कुरा लेता है लेकिन कभी मोहब्बत की राहो मे आकर तो देखो जो बात खामोसी मे है वो बात लब्ज़ों में कहा दिल के अरमान की खबर सबके आंखों में कहा केह कर प्यार नहीं करते जनाब हम हमारी यह बाते आपके दिल की किताबों में कहा ना जाने क्यूँ हवाएँ आज मुझसे कुछ कह रही है तुम्हारे पास होने का एक हसीं लम्हा मुझे दे रही है वो... »

आप

ये झुकी हई आंखों से मानो सुनहरी शाम सी लगती हो ये हसीन चेहरा एक खिलता गुलाब सी लगती हो किसी की जान न ले लेना आपकी मुसकान की तलवार से हर मेहखाना का कभी न उतरने वाला शराब सी लगती हो »

वो कौन है……

ये प्यारी मुस्कान आपकी पहचान बन जाए खिलता चेहरा लोगो के लिए ये शराब बन जाए ये होठ ये पलकें और ये गाल मानो मुझसे यह कह रहे हैं की खोजा इन सब में और तू मेरा गुलाम बन जाए ये झरने ये परिंदे और हवा के झोंके, सब तेरे साथ चलने लगेंगे तुझसे मेरी दोस्ती देख ये जमाने वाले मुझसे जलने लगेंगे बस तू कभी खफ़ा होने की बात न करना मेरी दिल-ए-धड़कन वरना तेरे साथ बिताए वो हसीं पल, मेरे दिल को चीरने लगेंगे दिल देने की... »

भारत का कश्मीर

इक पूरा इंसान था ये सारा जहान एक हाथ काट गया बंगाल और दूसरे हाथ पाकिस्तान बिच में रह गया मेरा भारत महान कश्मीर पर हमला करके क्या करता है तू खुद पे गुमान दूध के बदले जो खीर देता वही है मेरा हिंदुस्थान »

Page 1 of 212