Rahasya deoria, Author at Saavan's Posts

जलाते जा रहे

सब यहा मिलकर मुम्बतीया जलाते जा रहे। और वो एक एक हमारी बेटियां मिटाते जा रहे।। ना समझ मासूम ओर कमजोर बच्चीयो पर। ये कुछ नामर्द अपनी ताकत दिखाते जा रहे।। ” रहस्य ” देवरिया »

पुलवामा शहीद

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद देश के उन वीरों भावभीनी श्रध्दांजलि (( जय हिंद )) अब हर आतंकियों के मंशुबे नाकाम करना है। अब हर हाल में तुम्हें जलाकर राख करना है।। छुपे बैठे हैं जो अपने देश में कुछ चन्द गद्दारे। चुन चुन कर सबको गुनाह ए खाक करना है।। ” रहस्य ” देवरिया »

देश भक्ति के ये नारे

पुलवामा हमले में शहीद वीरों को भावभीनी श्रद्धांजलि देश भक्ति के ये नारे हर रोज क्यों नहीं लगते। ऐ आग हरदम सबके दिलों में क्यों नहीं जलते।। सियासी खेल खेलने वाले क्या जाने दर्द ए ग़म। ऐसे हमले में कभी उनके अपने क्यों नहीं मरते।। पुरा देश रो रहा उन वीर जवानों की शहादत पर। ये चंद गद्दार कभी सामने से वार क्यों नहीं करते।। कबतक समझौते अमन चैन की उम्मीद करते रहे। आतंक के रखवालों को नेस्तनाबूद क्यों नहीं... »

क्यों रुलाता जा रहा है तू

ऐसे अपनो को क्यों सताता जा रहा है तू। हर बार हमे क्यों रुलाता जा रहा है तू।। “” “” “” “” “” “” मेघो की आवाज सून ऐ काले बादल। बिन बरसे आगे क्यों बढता जा रहा है तू।। “” “” “” “” “” “” जैसे की हमारे सपने हमारे अरमानो को। इस कदर अब क्यों रौंदता जा रहा है तू।। ... »

दिए मे जो बात ” रहस्य ” देवरिया

दिल में जो हैं ” रहस्य ” देवरिया गर है मोहब्बत तो जताते क्यों नही। दिल मे जो है बात बताते क्यों नही।। %%%% %%%% जरुरी नहीं हर बार तू रुठे मै मनाऊ। हमे कभी भी तूम मनाते क्यों नहीं।। %%%% %%%% साथ हर पल देते तुम्हारी हर जिद् मे। तूम हमारा रिश्ता निभाते क्यों नही।। %%%% %%% ” रहस्य ” देवरिया »

दिल की बातो पर उनको

दिल की बातो पर उनको एतबार नहीं होता। चाहे कुछ भी करले उन्हें हमसे प्यार नहीं होता।। एक हम हैं उन्हें याद हर पल करते रहते हैं। पर वो कहते बात करने का समय यार नहीं होता।। ” रहस्य ” देवरिया »

रुलाता भी नहीं और

रुलाता भी नहीं और खुश रहने भी नही देता। ख्वाबो मे आने का वादा कर सोने नही देता।। बड़े बे अदब और बेरहम है हमसफर मेरा। दर्द देता है हंस कर पर मरहम नहीं देता।। ” रहस्य ” देवरिया »

मिली मुझे खुशियां

मिली मुझे खुशियाँ (“रहस्य:) देवरिया मेरे होठों कि हॅशी तेरे आनें से है, मिली मुझे खुशीयाॅ तेरे बहाने से है,, “””””””” मेरे लबों कि मुस्कुराने की वजह , बे पनाह तेरा प्यार मुझपे लूटाने से है,, “””””””” मैं तो सायद कबका मिट ही चूका था, मेरी साॅसो कि डोर तेरे सहारे से है “”””&#... »

आंखें मे ख्वाबो को सजाने की

एक और ग़लत आंखों में ख्वाबो को सजाने की ” रहस्य ” देवरिया आंखों मे ख्वाबो को सजाने की हिमाकत ना करते। काश दिल में किसी को बसाने की हिम्मत ना करते।। %%%%%%% कबूल कहा होती है अब यहां हर किसी की फरियादे। खुदा के दरबार कभी कोई भी हम मिन्नत ना करते।। %%%%%%% तकलीफ तो कम्बख्त सायद जिन्दगी ही देती है यहा। पहले पता कहा था वर्ना जिने की चाहत ना करते।। %%%%%%% आंखों में ख्वाबो को सजाने की हिमाकत... »

क्यों चली जाती हो ” रहस्य “

रोज मेरे ख्वाबो में आकर क्यों चली जाती हो। पास ना होके दूर से सता के क्यो चली जाती हो।। ********* जब्बभी सोचता हूँ कुछ पल सोलू रातो को। आके यादों में निंद चूरा कर क्यों चली जाती हो।। ********* बेखबर हो तूम मेरी सपनो कि उस दुनिया से। हर बार दिल में दस्तक देकर क्यों चली जाती हो।। ******** रोज मेरे ख्वाबो में आकर क्यों चली जाती हो ” रहस्य ” देवरिया »

Page 1 of 3123