Pooja, Author at Saavan's Posts

दोस्त

तेरे होने ना होने के बीच मेरी आँखें पिस रही है़ं॥ रह रह के रिस रही हैं दिन रात घिस रही हैं॥ »