Nishit Lodha, Author at Saavan's Posts

एक राह अक्सर चलोगे

एक राह अक्सर चलोगे

एक राह अक्सर चलोगे मिले न मिले तुम याद अक्सर करोगे, हम गुमसुम बैठे अगर तुम बात अक्सर करोगे , नुमाइश होगी कुछ अगर पूछ लेना हमसे , हमारी याद आये तो तुम बात अक्सर करोगे, ज़िन्दगी की पहल भी अजीब है, जीने की राह मिल जाये तो तुम साथ अक्सर चलोगे, तुम्हे नहीं पता नाम हमारा , तुम बिन नाम के भी याद अक्सर करोगे , कभी भूल जाऊ रास्तें या चहेरे कही, तुम यादों में आकर साथ अक्सर चलोगे, मुझे नहीं पता ये मौत कब गले ... »

माफ़ करना

माफ़ करना

माफ़ करना कुछ कहे कभी दिल दुखाया तो माफ़ करना , दर्द दिल को कभी पहुंचाया तो माफ़ करना , हसरत तो नहीं हमारी , देने को कोई गम की , पर आँखों को कभी रुलाया तो माफ़ करना , बोल जाते है कुछ शब्द आग़ोश में , उन् शब्दों को दिल से लगाया तो माफ़ करना , अरमान बहुत है रब तुझसे ,इबादत करना , उस वक़्त में गुस्ताख़ ऐ दिल आज़माया तो माफ़ करना , मुमकिन नहीं मिलना हर चाह ज़िन्दगी की, पर कोशिश ही न करू में, तो खुदा तू माफ़ करना ... »

मेरे पापा (हर पिता को समर्पित)

 मेरे पापा (हर पिता को समर्पित) आज फिर ऊँगली पकड़ मुझे एक राह चलना सीखा दो पापा , कुछ यादें फिर साथ अपने रहे, कुछ बातें ऐसी बना दो पापा , देख युही आँखो में मेरे ,पकड़ मुझे हस् के गले से लगा दो पापा , आज फिर मुझे हाथ पकड़ एक राह संघ चला दो पापा, याद है मुझको आपका कंधे पे बिठा कर हर जगह घुमाना पापा , हातों में ले मुझे ,हातों में ही सुलाना पापा, हर सुबह माथे पे चुम मुझे गोदी में उठाना पापा , अपने हातों ... »

न जाने वो कौन थे

न जाने वो कौन थे , मोहबत का तवजु दे गए मुझे , न जाने वो हमदर्द कौन थे, लिखी न कभी दास्ताँ दिल की , दिल जला वो दे गए , जाने वो खुदगर्ज़ कौन थे, रास्ता ढूंढता मुसाफिर बन जहां  , वो राही बन बेसहारा कर गए, जाने वो सरफिरे कौन थे , में चला जहां जो अपनी चाल कही , वे काफिला बन साथ चल गए , जाने वो हमदम कौन थे, अब कही अपनी राह पा चूका, मिले जो वो जन मौन है , सोचु में बस यही , न जाने वो कौन थे। कवि निशित लोढ़ा »

दिल से दिल की बातें

दिल से दिल की बातें  वक़्त निकालने के लिए कभी साथ ज़रूरी लगता था , आज अकेले यादों के सहारे भी जी लेता  है , अब न तुम याद आते हो ,न तुम्हारी याद आती है, ये बहती हवा दिल के पन्ने पलट कर न जाने कहा चली जाती है , मांगू जहां छाया तेरे जुल्फो कि उस तपती दुपहरी में, चहेरा वही मेरा न जाने क्यों यु जला चली जाती है  , खुद कि वफ़ा ऐ दिल अब क्या में साबित करू , मेरे दिल की धड़कन मुझे बेवफा कहे जाती है , मुलाकात त... »

में हु थोड़ा उनमे थोड़े मुझमें

में हु थोड़ा उनमे थोड़े मुझमें छूटे न छूटे ऐसा रिश्ता बन जाये उनसे , दुनिया छोड़ जाये पर वो न दूर जाये मुझसे , कहे दू उनसे वो क्या है मेरा लिए , या बन जाऊ अंजान हमेशा के लिए उनसे,  संग चलू उनके हाथों में हाथ कही, या चल दू मुसाफिर बन ,कि रहे न जाऊ खुदमे , लिखू कहानी बीतें पल की संग कही , या जी लू ज़िन्दगी थोड़ा उनमे थोड़ा मुझमे , कहा हु में अब समझ नहीं आता याद में उनके , बस लेता हु साँसे ,धड़कन में थोड़ा उ... »

आपकी बहुत याद है आती

आपकी बहुत याद है आती आपकी बहुत याद आती है , साथ आपका ,बातें आपकी,मुस्कान हो या चाहत आपकी, सब दिल में है, कुछ कहती और चली जाती , शायद इसे आपकी बहुत याद है आती, बोले अलफाज़ और बीतें हर साज़ मेरा पास है जैसे साथी , न जाने क्यों हर दम-हर वक़्त मुझसे बहुत कुछ ये बातें कहे जाती, मन में है सवाल कही ,उसके जवाब ढूंढे कहा ऐ जनाब बन साथी, कहु खुदसे बस यही कि दिल में आपकी बहुत याद है आती, ढूंढा कहा नही आपको मैंन... »

वो समुन्दर भी बहुत रोता है

वो समुन्दर भी बहुत रोता है

वो समुन्दर भी बहुत रोता है समझ गया एक दिन समुन्दर,तू भी कितना रोता है, खारा है तू खुद में कितना , शायद इंसान से ज्यादा तू दिल ही दिल रोता है, पाया क्या तूने जो खोया होगा, की तू खुद में इतना खोता है, समझ गया एक दिन की समुन्दर तू भी बहुत रोता है, मन में न दर्द रखता दिल में न द्वेश , क्यों हर मायूस-हारा इंसान तेरे पास किनारे होता है, अकेला महसूस किया जब किसी ने, तो मिटटी या पत्थर पर सोता है, लेकिन सम... »

बेवफा दिल

बेवफा दिल

बेवफा दिल बेवफा ज़िन्दगी में किसी अजनबी से प्यार हो गया , मोहबत हुई उनसे इस कदर की ऐतबार हो गया , सुना था दुनिया में अक्सर की ये प्यार क्या है , किया जब दिल ने, मुझसे पूछो की ये बला क्या है, मिले जब दिल कही उनसे तब लगा सदियों के फासले है , दिल के दिल से जुड़े कही तो कुछ फैसले है, चाहा था क्या दिल ने और मिला क्या, शायद उनके मेरे बीच यही सिलसिले है , यकीन था इस दिल में की हम इस जहान में मिलेंगे , मिला... »

वो माँ है

वो माँ है आँखों में छुपी हमारी हर ख़ुशी , हर मुस्कराहट का राज़ है तो वो माँ है, गम हो की दुख़,दर्द ही क्यों न हो दिल मे , उस दर्द में छुपे हर सवाल का जवाब है तो वो माँ है, दुखाये दिल जब ये दुनिया कही हर मुकाम पे, संभाल मुझे समझाने वाली वो है तो वो अपनी माँ है, आंसू आए जहाँ चहेरे पर जब कभी , हाथ आँचल संभाले आये वो साथ मेरी माँ है, ये मुस्कान, ये हँसी, चहेरे पे जो हरदम दिखे,दुनिया की तब्दील मुश्किलों क... »

Page 1 of 212