Mithilesh Rai, Author at Saavan - Page 2 of 30's Posts

मुक्तक

मुक्तक

तेरे लिए हम तन्हा होते चले गये! तेरे लिए हम खुद को खोते चले गये! पास जब भी आयी है यादों की चुभन, तेरी ही चाहत में रोते चले गये! #महादेव_की_मुक्तक_रचनाऐं’ »

मुक्तक

मुक्तक

तेरा नाम कागज पर बार-बार लिखता हूँ! तेरे प्यार को दिल में बेशुमार लिखता हूँ! टूटेगा न सिलसिला तेरी तमन्नाओं का, तेरे ख्यालों पर गमें-बेकरार लिखता हूँ! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

ख्वाबों की हकीकतें रिश्ते तोड़ देती हैं! रिश्तों की जरूरतें तन्हा छोड़ देती हैं! ख्वाहिशें जमाने की तड़पाती हैं दिल को, जिन्दगी की मुश्किलें राहें मोड़ देती हैं! #महादेव_की_मुक्तक_रचनाऐं’ »

मुक्तक

दिन गुजर जाएगा मगर रात जब होगी! तेरी चाहत से मुलाकात तब होगी! सिसकियाँ ख्यालों की तड़पाएगीं कबतक? तुमसे दिल की रू-ब-रू बात कब होगी? मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

तेरे ख्यालों की मैं राह ढूंढ लेता हूँ! तेरे जख्मों की मैं आह ढूंढ़ लेता हूँ! ढूंढ लेती हैं मुझको तन्हाइयाँ जब भी, मयकदों में अपनी पनाह ढूंढ लेता हूँ! मुक्तककार-#मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

वक्त जाता है मगर खामोशी नहीं जाती! तेरे हुस्न की कभी मदहोशी नहीं जाती! फैली हुई है हरतरफ यादों की ख़ुशबू, तेरी चाहतों की सरगोशी नहीं जाती! मुक्तककार-#मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

तेरे दीदार का बहाना मिल ही जाता है! तेरी उल्फ़त का तराना मिल ही जाता है! कभी थकती नहीं नजरें मेरी इंतजार में, तेरी यादों का नजराना मिल ही जाता है! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

मैं इत्तेफाक से गुनाह कर बैठा हूँ! तेरे रुखसार पर निगाह कर बैठा हूँ! शामों-सहर रहता हूँ बेचैन इसकदर, तेरे लिए जिन्दगी तबाह कर बैठा हूँ! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

मेरा जिस्म है मगर जान तुम्हारी है! तेरे बिना तन्हा जिन्दगी हमारी है! दर्द बरक़रार है तेरी जुदाई का, जाम की मदहोशी मेरी लाचारी है! मुक्तककार- #मिथिलेश_राय »

मुक्तक

मुक्तक

तेरा ख्याल मेरी हद से गुज़र रहा है! मेरा जिस्म तेरी चाहत से डर रहा है! खुली हुई हैं सिलवटें ख्वाबों की नजर में, यादों का सफ़र अश्कों में उतर रहा है! मुक्तककार-#मिथिलेश_राय »

Page 2 of 301234»