mansi, Author at Saavan's Posts

मुलाक़ात

बड़ी चाह है ख़ुद को फ़िर बर्बाद करें, तुम आओ कि हम फिर मुलाक़ात करें !! »

rang

rang

rang bikhero khul k is jamaane me »

नफ़्ज़

पकड़ी जब नफ़्ज़ मेरी., हकीम लुकमान यू बोला…! वो ज़िंदा है तुझ में..’ तू मर चूका है जिस में..!🥀✍🏻 »

नजर-अंदाज

उदासी जब तुम 👱🏻 ‍♀️पर बीतेगी 🤕 तो तुम भी 😰जान जाओगे, कोई 😒 नजर-अंदाज 😏 करता है तो 😫 कितना दर्द 🤕 होता है.. »

कवि

कवि होना भी खुदा की रहमत का ही नमूना है वरना युं अपने दर्द को शब्दों में बयां कर पाना हर किसी के बस की बात नहीं। »

उदास

पानी से भरी आखें लेकर मुझे घूरती ही रही शीशे के उस पार खड़ी लड़की उदास बहुत थी। »

रंग

मकड़ी जैसे मत उलझो तुम गम के ताने बाने में, तितली जैसे रंग बिखेरो हँस कर इस ज़माने में.. »

ख्वाब2

मेरी आंखों में झाँक लो आकर जलते ख्वाब जो देखना चाहो। »

ख्वाब

तु आए और आकर लिपट जाए मुझसे उफ्फ ये मेरे महंगे ख्वाब »

दिल

कितना खुश है वो मुझे भुलाकर ए खुदा मुझे भी उसके जैसा दिल दे दे….। »

Page 1 of 212