दीपिका वर्मा "साहिबा", Author at Saavan's Posts

क्या कभी किसी को देखा है ?

क्या कभी किसी को देखा है ? दर्द से छटपटाते हुए। क्या कभी सुना है तुमने किसी को चुप-चाप चिल्लाते हुए। कठिन बड़ा है उस बेटी की आह को सुन ना, कठिन बड़ा है उस माँ के खयाल बुन ना। कठिन बड़ा है उस मासूम की देखना सूरत, कठिन है देखना ,बच्चों को कराहते हुए। क्या कभी सुना है तुमने किसी को चुप-चाप चिल्लाते हुए। कैसे कोई इतना बड़ा पाप कर सकता है? ले नन्ही सी जान की जान ,इतने नीचे गिर सकता है? कैसे कोई नहीं पिघलता... »