Deepika, Author at Saavan's Posts

ये इश्क है

कोई दीवाना कहता है हमको, कोई पागल करार देता है ये इश्क है महरबान हमपर, हरपल बेशुमार देता है »

मेरी कविता

मेरी कविता लफ़्जों को नहीं अहसासों को जोड़ती है तोड़ती है अकर्मण्य बेड़ियों को लोगों को जोड़ती है »