Bidya, Author at Saavan's Posts

Sabera

मान लिया था हमने हर सबेरा है अपना, फिर कुछ यूँ हुआ के कभी रात हि ना गुजरी… —विद्या भारती — »

Jhuti baten

Bhar gaya h man jhuti baton k meethe swad se ! Sach suna de koi to tavyat sudhar jaye !! »

Pyasa

Pyasa

आँसुओ के हर घुँट को पीने की आदत है हमे,, और तुझे लगा हम तेरे मुहब्बत के प्यासे हैं!! »

Muskurahat

Muskurahat

सींच लेती हुं कभी इन आँखो के पानी से .. मुरझा जाती है जब मेरे दर्द की मुस्कुराहट …. »

Aye asman

Aye asman

मत रो ऐ आसमान यूँ बिखर के ऐसे , थम जा जरा ! गम का बस एक किस्सा सुनाया था , अभी तो पुरी कीताब बाकी है !! »

khwahishen

khwahishen

सेहम जाती है आँखे अधुरे ख्वाहिशों के बारिश में भीग कर, एहसासों के बदलते भंवर में अक्सर डुब जाती हुं मैं …. »

khwahishen

khwahishen

सेहम जाती है आँखे अधुरे ख्वाहिशों के बारिश में भीग कर, एहसासों के बदलते भंवर में अक्सर डुब जाती हुं मैं …. »

khamoshi

khamoshiyon ko khamoshi se khamosh rehne do bhari yadon ko khamoshi se gungunane do chale aye ho khayalon me bina dastak diye ab to ansuon ko palakon se khamosh behne do   »