bhoomipatelvineeta, Author at Saavan's Posts

गुस्ताखियाँ

यूं तो अरमानों के इरादे भी परेशान हैं, पानी की बूँदें भी आँखों की बारिश से हैरान हैं| पर जनाब हमारी गुस्ताखियों की भी हद नहीं होती, ऐसी केफ़ियत में अपनी ही परछाई में सुकून ढूँढ लिया करते हैं| »

दुनिया जीतकर मैं ममता हार गयी

चल पड़ी उस राह पर,जहां काटें बहुत थे| माँ, तेरी फूल जैसी गोदी से उतरकर ये काटें बहुत चुभ रहे थे| चलते हुए एक ऐसा काटा चुभा था, कि ज़ख्म से खून आज भी निकल रहा है| माँ, मंजिल पर तो पहुँच गयी हूँ, पर इसकी ख़ुशी मनाने के लिए है तू ही नहीं है| यूं तो मैं तेरी मल्लिका थी, पर मैं तुझे रानी बनाना चाहती थी| लेकिन पता नहीं था मुझे कि तेरे दिल में, मुझे पाने का फ़कीर जिंदा था| माँ, वो तेरे शब्द जो मैंने सफलता के... »

नींद

आजकल नींद सोती है मेरे बिस्तर पर, और मैं तो ख्यालों की दुनिया मैं टहलने निकल जाती हूँ| »

जीतना

मुझको मुझसे जीत कर, खुशियाँ मना रहे थे वो| शायद हारकर जीतने और जीत कर हारने के , उस एहसास से वाकिफ़ न थे वो| »

The Dark Night

She was walking alone on the street, having shoes in foot with cleat. It was the darkest day of her life, like someone stabbed her with knife. Moon was shining, darkness was thriving. In the midst of glimmering whiteness, she was there with forthrightness. Her steps shortened suddenly, frightened by the some steps coming cunningly. Those were the steps of some dolt, they pushed her with a jolt. Sh... »

भारत के रक्षक

इतिहास है आज भी जिस पर मौन, वह है आखिर कौन, वह है आखिर कौन? जो लड़ता रहा हर समय किसी के लिए, और मरता रहा किसी के लिए| रहता है वो सबसे दूर, देश के प्यार में है वो मजबूर| दो देशों की ‘नेतागिरी’, जिसमे है अब सेना ‘गिरी’| जिसकी माँ करती उसके लिए हमेशा इंतज़ार| बेटी कहती है बार बार,लगता है हो गये साल हज़ार आपका करे दीदार| न जाने क्यों बटा है ये जहां, जिसमे ली है लोगों ने पनाह| हर द... »

भारत के रक्षक

इतिहास है आज भी जिस पर मौन, वह है आखिर कौन, वह है आखिर कौन? जो लड़ता रहा हर समय किसी के लिए, और मरता रहा किसी के लिए| रहता है वो सबसे दूर, देश के प्यार में है वो मजबूर| दो देशों की ‘नेतागिरी’, जिसमे है अब सेना ‘गिरी’| जिसकी माँ करती उसके लिए हमेशा इंतज़ार| बेटी कहती है बार बार,लगता है हो गये साल हज़ार आपका करे दीदार| न जाने क्यों बटा है ये जहां, जिसमे ली है लोगों ने पनाह| हर द... »

नादान

हर एक तनहा लम्हे में एक अर्थ ढूँढा करती थी| हर अँधेरी रुसवाई में गहरा अक्श ढूँढा करती थी | मैं मेरी परछाई में एक शख्स ढूँढा करती थी| मेरी मुझसे हुई जुदाई में कुछ वक़्त ढूँढा करती थी | लोग कहते थे की नादानी का असर है, मैं उस नादानी में भी कदर ढूँढा करती थी| »

दिल और दिमाग

यूँ तो दिल उबल रहा है, शब्दों के उबाल से | और ये कम्बखत दिमाग कहता है, अपने ज़ज्बातों को संभाल ले | »

तन्हाई

न जाने क्यों एक तन्हाई सी छा रही है, ज़िन्दगी एक कहानी सी बनती जा रही है। न जाने क्यों ये दिल खुद को अकेला पा रहा है , हकीकत से परे ही जा रहा है। आँखों से दर्द बह रहा है, पानी तो सिर्फ एक जरिया है। न जाने तन्हाई का कितना बड़ा दरिया है। इन राहों में बहुत सी ‘जानें’ हैं, पर दुःख तो यह है कि सभी अनजाने हैं। बस!चल पड़ी अब सच की राह पर, सच्ची दुनिया पाने की चाह पर। पर ये सच अकेलापन क्यों है ला... »